Shopin

सरकारी प्रतिभूतियों के प्रति ऋण/प्रतिभूतित ओवर ड्राफ्ट

  • उद्देश्‍य

    किेसी उत्‍पादक प्रयोजन हेतु इस राशि का उपयोग किया जा सकता है.

    अधिकतम राशि

    अ. ऋण
    क) एनएससी/आरबीआई बंध पत्रों के प्रति ऋण

    2 साल तक पुराने – संचितमूल्‍य का 70% .
    2 साल से अधिक 4 साल तक पुराने - संचितमूल्‍य का 75% .
    4 साल से अधिक - संचितमूल्‍य का 85% .

    जीवन बीमा पालिसी/केवीपी के प्रति – अभ्‍यर्पण मूल्‍य का 90%

    एनएससी/केवीपी/आरबीआई बंध पत्रों के प्रति एसओडी - संचित मूल्‍य का 80%

    एलआईसी के प्रति एसओडी - संचितमूल्‍य का 90%

    नोट : केवीपी के प्रति ऋणों का नकदीकरण ढाई साल के बाद किया जा सकता है.

    पुनर्भुगतान

    ऋणों के लिए :-
    अधिकतम 60 किस्‍तों में या परिपक्‍वता की अवधि तक, जो भी पहले होता है.

    प्रतिभूतित ओवर ड्राफ्ट :-
    तीन वर्ष.

    ब्‍याज दर यहॉं क्लिक करें

    सदस्‍यता

    रु.1.00 लाख तक – नामत: सदस्‍यता रु.100/-

    रु.1.00 लाख से अधिक – नियमित सदस्‍यता – हद तक शेयरहोल्डिंग मानदंडों के अनुसार

    जमानत

    शून्‍य

    प्राथमिक प्रतिभूति

    एनएससी, केवीपी और एलआईसी पालिसियों का अभ्‍यर्पण और गिरवी.
    रिजर्व बैंक बंध पत्र के मामले में, उसे हमारे बैंक के नाम अंतरित करना है

    सेवा प्रभार
    • ऋणों के लिए :-
      0.60 % (न्‍यूनतम रु.100/- और अधिकतम रु.1000/- + लागू जीएसटी
    • एसओडी के लिए :-
      0.60 % (न्‍यूनतम रु.100/- और अधिकतम रु.1000/- + लागू जीएसटी
    अन्‍य
    • अवयस्‍क के नाम जारी प्रमाण पत्र प्रतिभूति के रूप में स्‍वीकार नहीं किया जाता.
    • जीवन बीमा निगम द्वारा जारी किए गए पालिसी के विरुद्ध ऋण/एसओडी के लिए तभी विचार किया जाएगा जब पालिसी केवल ऋणकर्ता के नाम जारी किया जाता है.